शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं

शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं  – दोस्तों सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में शिक्षण कौशल 10 अंक का पूछा जाता है। शिक्षण कौशल के अंतर्गत ही एक विषय शामिल है जिसका नाम शिक्षण अधिगम के सिद्धांत है। यह विषय बीटीसी बीएड में भी शामिल है।

आज हम इसी विषय के समस्त टॉपिक को पढ़ेगे।  बीटीसी, बीएड,यूपीटेट, सुपरटेट की परीक्षाओं में इस टॉपिक से जरूर प्रश्न आता है। जिसमें आज हम एक टॉपिक शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं  पढ़ेगे ।

अतः इसकी महत्ता को देखते हुए hindiamrit.com आपके लिए शिक्षण की समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं  लेकर आया है।

Contents

problems in teaching | शिक्षण में समस्याएं | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं

शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं
शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं

शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं

Tags – बालक के समक्ष शिक्षण करते समय समस्याएं,शिक्षक के समक्ष शिक्षण कराते समय समस्याएं,बालक के  शिक्षण कार्य में समस्याएं,शिक्षक के शिक्षण कार्य  में समस्याएं,शिक्षण में समस्याएं,problems in teaching,प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं, शिक्षण कार्य में कौन-कौन सी समस्याएं उत्पन्न होते हैं,शिक्षण कराते समय किन किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है,शिक्षक के लिए शिक्षण में क्या समस्याएं हैं,

प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं | characteristics of good teaching in hindi

(1) शिक्षण सुनियोजित होना चाहिए

किसी भी व्यवस्था का अच्छा या बुरा होना उसकी योजना (Planning) पर निर्भर करता है । यदि कार्य की योजना उत्तम है तो कार्य भी उत्तम होगा । ठीक इसी प्रकार शिक्षण की सफलता एवं असफलता उसकी योजना पर निर्भर करता है ।

जिन शिक्षकों की योजना शिक्षण से पूर्व तैयार होती है उनका शिक्षण भी सफल होता है । लेकिन योजना में लचीलापन होनी चाहिए जिससे कक्षा में परिस्थितियोंवश परिवर्तन किया जा सके । इसके विषय में डॉ. भाटिया ने लिखा है- “Good Teaching is planned carefully in advance but is not rigid, the plane is flexible enough to make allowances for the changes.”

(2) शिक्षण सुझावात्मक होता है

अच्छा शिक्षण सुझावात्मक होना चाहिए इसमें बालकों को आदेश प्रदान न करके सुझाव प्रदान किया जाता है । अच्छा शिक्षण वह है जिसमें कलम स्वयं पर किसी का तनिक भी दबाव महसूस नहीं करता है। अतः शिक्षक ऐसा हो जिसे जो सुझावात्मक तरीके का प्रयोग करना चाहिए इस विषय में डॉ. भाटिया ने लिखा है-A good teacher suggests rather than dictates.

ये भी पढ़ें-  बाल विकास के सिद्धान्त Principles of child development

(3) शिक्षण दया एवं सहानुभूतिपूर्ण होता है

सफल शिक्षक के लिए यह परम आवश्यक होता है कि वह दया एवं सहानुभूतिपूर्ण व्यवहार छात्रों के साथ करें क्योंकि छात्रों की जो मूल समस्याएँ हैं। उनकी जानकारी प्राप्त हो सकेंगी तथा अध्यापकों के द्वारा इन समस्याओं को जानने के बाद उनका समाधान किया जायेगा तथा छात्रों को उत्तम ज्ञान तो प्राप्त होता ही लेकिन इसके अतिरिक्त उनमें कोई ग्रन्थि पैदा नहीं होती है।

(4) अच्छा शिक्षण प्रेरणादायक होता है

अच्छा शिक्षण वह कहलाता है जिसमें शिक्षक के द्वारा ऐसा वातावरण तैयार किया जाता है। जिसमें बालक स्वयं क्रिया करने को तत्पर होता है और उससे कुछ सीखता है। शिक्षक को चाहिए कि वह बालक को अधिक-से-अधिक प्रेरित कर सके क्योंकि बालक को सीखने की जितनी रुचि होती है बालक उतना ही अधिक सीखने का प्रयास करेगा।

(5) अच्छे शिक्षण में व्यक्तिगत विभिन्नताओं को ध्यान में रखा जाता है

मनोवैज्ञानिकों ने यह स्पष्ट कहा है कि कोई दो व्यक्ति एक जैसी रुचि और आदत के नहीं होते हैं सभी में विभिन्नता पायी जाती है। इसलिए एक अच्छे अध्यापक को अच्छे शिक्षण में उनकी व्यक्तिगत समस्याओं को ध्यान में रखकर शिक्षण कार्य करना चाहिए । इसकी अनुपस्थिति में सभी छात्र ज्ञानार्जन में सक्षम नहीं होंगे।

(6) शिक्षण प्रजातन्त्रीय होना चाहिए

अच्छा शिक्षण वही है जो बालकों में प्रजातन्त्रात्मक मनोवृत्ति को उत्पन्न कर दे और वह अपने प्रतिदिन के व्यवहार एवं आचरण में प्रजातन्त्रीय भावनाओं द्वारा प्रेरणा ग्रहण करे तथा उनमें प्रजातन्त्रीय विचारों को जीवन में उतारने की भावना का विकास करे । अत: कक्षा में प्रत्येक विद्यार्थी को शिक्षण प्रक्रिया में समान अधिकार प्रदान किये जाने चाहिए।

(7) शिक्षण प्रगतिशील होना चाहिए

बालक की सच्ची शिक्षा उसके निजी अनुभवों पर आधारित होनी
चाहिए । शिक्षण बालक के पूर्व अनुभवों को ध्यान में रखते हुए नवीन ज्ञान प्रस्तुत करता है । अत: बालक की शिक्षा उसके निजी अनुभवों पर आधारित होनी चाहिए।

(8) सहयोग पर आधारित

शिक्षण एक मार्गीय नहीं होता, उसके लिये अध्यापक तथा विद्यार्थियों के बीच सहयोग होना अनिवार्य है। यदि विद्यार्थियों का सहयोग अध्यापक को प्राप्त नहीं होगा तो कभी भी सफल शिक्षण नहीं हो सकता। विद्यार्थियों के सहयोग के लिये अध्यापक को चाहिये कि वह उनके लिये अच्छी क्रियाओं का आयोजन करे।

(9) प्रजातन्त्रीय (Democratic)

वर्तमान युग प्रजातन्त्र का युग है। कक्षा के प्रत्येक विद्यार्थी को शिक्षण प्रक्रिया में समान अधिकार प्रदान किये जाने चाहिये। वास्तव में अच्छा शिक्षण वही है जो बालकों में प्रजातन्त्रात्मक मनोवृत्ति को उत्पन्न कर दे और वह अपने प्रतिदिन के व्यवहार तथा आचरण में प्रजातन्त्रीय भावनाओं द्वारा प्रेरणा ग्रहण करे तथा उनमें प्रजातन्त्रीय विचारों को जीवन में उतारने की भावना का विकास करे।

ये भी पढ़ें-  सम्प्रेषण का अर्थ एवं परिभाषाएं | सम्प्रेषण प्रक्रिया के तत्व या घटक | meaning and definition of communication in hindi

(10) शिक्षण निर्देशात्मक होना चाहिए

अच्छे शिक्षण में बालक को आदेश न देकर निर्देश दिया जाता है । कक्षा का वातावरण निर्देशात्मक होना चाहिए । कक्षा में शिक्षक को ऐसी स्थिति उत्पन्न करनी चाहिए जिनमें कार्य करके बालक को अनेक ज्ञान ग्रहण करना चाहिए।

(11) शिक्षण निदानात्मक एवं उपचारात्मक होना चाहिए

वस्तुनिष्ठ परीक्षाओं के माध्यम से बालक की योग्यताओं क्षमताओं तथा संवेगात्मक विशेषताओं का पता सरलतापूर्वक लगाया जा सकता है। इन साधनों के द्वारा हम शिक्षण को निदानात्मक बना सकते हैं। साथ ही व्यक्तिगत भिन्नता, शिक्षण की नवीन पद्धतियों तथा पिछड़ेपन के कारणों का ज्ञान प्राप्त करके हम शिक्षण को उपचारात्मक बना सकते हैं।

(12) अच्छे शिक्षण में सहयोग की भावना होती है।

(13) अच्छे शिक्षण के छात्रों के लिए पूर्व अनुभवों को ध्यान में रखना चाहिए।

(14) अच्छा शिक्षण प्रगतिशील होता है।

(15) अच्छे शिक्षण में बालकों की कठिनाइयों का निदान किया जाता है।

(16) अच्छा शिक्षण बालकों में आत्मविश्वास पैदा करता है।

(17) अच्छा शिक्षण बालक व मस्तिष्क को स्वतन्त्रता प्रदान करता है।

(18) अच्छे शिक्षण में बालकों के ज्ञान का उचित मूल्यांकन करता है।

सारांशत: अच्छे शिक्षण के विषय में योकम तथा सिम्पसन ने लिखा है-“कुशल नियन्त्रण एक ऐसी यात्रा है जो अनुभवों के बिम्ब में की जाती है जिसमें शिक्षक यात्रा का संयोजक होता है । यात्रा की सफलता भावी प्रदर्शन पर आश्रित होती है और मार्ग प्रदर्शन की आवश्यकता प्रत्येक स्तर पर आवश्यक है।

सबसे प्रथम-उसकी आवश्यकता यात्रा का उद्देश्य निश्चित करने तथा योजना बनाने में पड़ती है । दूसरे-यात्रा की साधन सामग्री जुटाने में, तीसरे-बालकों की रुचि आकर्षित करने वाले स्थानों की ओर संकेत करने में, चौथे-इन वस्तुओं को बालक के लिए सार्थक बनाने में, पाँचवें यात्रियों के आराम एवं सुविधा की ओर ध्यान में और अन्त में स्थानुभावों में मूल्यांकन करने में जिससे कि वे उसी प्रकार की यात्रा को करने में पुनः पथ पर रहे।”

शिक्षण में समस्याएँ (Problems in Teaching)

प्रत्येक समाज की संरचना, उसके सिद्धान्त, उसकी सभ्यता और संस्कृति तथा उसकी बदलती हुई आवश्यकता होती हैं। और शिक्षा का उद्देश्य वर्तमान समाज में स्थापित सिद्धान्त, संस्कृति, मूल्य, आदर्श एवं आवश्यकताओं को जनसामान्य तक पहुँचाना होता है । और शिक्षण के उद्देश्य शिक्षा के उद्देश्यों से ही निर्मित होते हैं । जिस प्रकार समाज परिवर्तनशील होता है। उसी प्रकार शिक्षा-शिक्षण के उद्देश्य परिवर्तनशील होते हैं ।

शिक्षण करते समय अध्यापक के समक्ष अनेक प्रकार की समस्याएँ आती हैं। कभी भिन्नता की तथा कभी नवीन शिक्षण विधियों से सम्बन्धित समस्याएँ आती हैं लेकिन कुशल अध्यापक वही है जो इन समस्याओं का निराकरण करते हुए उत्तम शिक्षण करते हैं ।

ये भी पढ़ें-  जिला एवं प्रशिक्षण संस्थान ( डायट) के कार्य एवं उद्देश्य / डायट ( DIET) के विभाग

(1) बालक के समक्ष शिक्षण की समस्याएं

1. स्वास्थ्य (Health)-

अस्वस्थता किसी भी बात को सीखने में बाधक है क्योंकि अस्वस्थ बालक अपना ध्यान पाठ पर केन्द्रित नहीं कर सकता।

2. बुद्धि (Intelligence)-

तीव्र बुद्धि बालक किसी भी बात को शीघ्रता से समझ लेते हैं, जबकि मन्द बुद्धि बालक उसे इतनी शीघ्र नहीं सीख पाते।

3. क्षमता (Capacity)-

किसी बात को सीखने की क्षमता भी प्रत्येक बालक में भिन्न हुआ करती है। कोई बालक किसी बात को शीघ्र सीख लेता है तो दूसरा बालक अन्य किसी बात को। कोई बालक दो बातें सीख पाता है तो कोई केवल एक ही।

4. योग्यता (Capability)-

योग्यता के अन्तर्गत आता है-किसी बालक को कितना आता है और उससे आगे उसे क्या बताया जाना सम्भव है अथवा क्या बताया जाना चाहिये?

5. अवधान (Concentration)-

जो बालक अपना ध्यान पाट पर केन्द्रित कर सकता है वह पाठ को शीघ्र समझ लेता है, किन्तु जिसमें अवधान की कमी है वह सरल बात को भी देर से सीख पाता है।

6. रुझान/अभिरुचि (Aptitude)-

बालक बुद्धिमान हो सकता है परन्तु वह किसी विषय को तो मन लगाकर पढ़ता है, जबकि दूसरे की ओर ध्यान ही नहीं देता। यह उसकी अभिरुचि (Aptitude) पर आधारित है कि किस विषय को पढ़ना पसन्द करता है और किसको नहीं?

7. रुचि (Interest)-

जिस बात में या पाठ में बालक रुचि लेगा उसे वह शीघ्र सीख जायेगा अन्यथा नहीं। अत: शिक्षक को जानना चाहिये कि कौन बालक पाठ में रुचि नहीं ले रहा है और क्यों? और भी अनेक बातें हैं, जिनका सीधा सम्बन्ध विद्यार्थी से है और जो सीखने में सहायक हैं।

8. अनुशासन (Discipline)-

नियमों का पालन करना, समय का ध्यान रखना शिक्षक की आज्ञा का पालन करना, सभी कुछ अनुशासन के अन्तर्गत आ जाता है। इन बातों के अभाव में भी बालक उतना नहीं सीख पाते जितना उन्हें सीख लेना चाहिये ।


(2) अध्यापक के समक्ष शिक्षण की समस्याएं

अध्यापक के समक्ष निम्नलिखित समस्याएँ आती हैं-

1. वैयक्तिक और सामूहिक शिक्षण विधि की समस्या
2. शिक्षण और जीवन के सम्बन्ध की समस्या
3. सह-सम्बन्ध की समस्या
4. शिक्षण के माध्यम की समस्या
5. शैक्षणिक एवं औद्योगिक निर्देशन, एवं परामर्श की समस्या
6. कक्षा-कक्ष में अनुशासन की समस्या
7. सह-शिक्षा (Co-education) की समस्या
8. वैयक्तिक भिन्नता की समस्या
9. छात्र एवं छात्राओं की भिन्न-भिन्न रुचियों (Interest) की समस्या
10. अपव्यय एवं अवरोधन की समस्या
11. छात्र एवं अध्यापक के बीच सम्बन्ध स्थापन की समस्या
12. नवीन शिक्षण विधियों के प्रयोग की समस्या
13. नवीन उपकरणों का ज्ञान तथा उनके प्रयोग की समस्या
14. छात्रों के मूल्यांकन की समस्या
15. कक्षा में उपद्रवी छात्रों की समस्या
16. छात्रों के मानसिक व बौद्धिक स्तर में भिन्नता की समस्या
17. बहुधन्धी (Multipurpose school) विद्यालयों की समस्या
18. समाजीकरण की समस्या (Socialization)
19. शिक्षण उपकरण, प्रयोग एवं उपलब्धता की समस्या
20. छात्रों एवं शिक्षक में वैमनस्यता की समस्या

आपको यह भी पढ़ना चाहिए।

टेट / सुपरटेट सम्पूर्ण हिंदी कोर्स

टेट / सुपरटेट सम्पूर्ण बाल मनोविज्ञान कोर्स


दोस्तों आपको यह टॉपिक शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं । आप शिक्षण में समस्याएं | problems in teaching | प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं को अपने मित्रों के साथ शेयर भी करें।

Tags – बालक के समक्ष शिक्षण करते समय समस्याएं,शिक्षक के समक्ष शिक्षण कराते समय समस्याएं,बालक के  शिक्षण कार्य में समस्याएं,शिक्षक के शिक्षण कार्य  में समस्याएं,शिक्षण की समस्याएं,problems in teaching,प्रभावी शिक्षण की विशेषताएं, शिक्षण कार्य में कौन-कौन सी समस्याएं उत्पन्न होते हैं,शिक्षण कराते समय किन किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है,शिक्षक के लिए शिक्षण में क्या समस्याएं हैं,

Leave a Comment