मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर | difference between fundamental units and derived units

difference between fundamental units and derived units ,मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर -दोस्तों आज हम अपनी वेबसाइट hindiamrit.com पर आपको इस टॉपिक की सारी जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

Contents

मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर

मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर,मूल मात्रक क्या है,व्युत्पन्न मात्रक किसे कहते है,
Mool matrak aur vyutpann matrak me antar

मूल मात्रक किसे कहते है

स्वेच्छा से चुनी गई वे राशियां जिनके मात्रकों के पदों में अन्य भौतिक राशियों के मात्रक व्यक्त किए जा सकते हैं मूल राशियां कहलाती हैं तथा इनके मात्रक मूल मात्रक कहलाते हैं।

Noteयह राशियां कुल 7 होती हैं,अतः मूल मात्रक भी 7 होते हैं



क्र०सं०मूल राशिमूल मात्रक
(मूल SI मात्रक)
प्रतीक/संकेत
1लंबाई मीटर m
2 द्रव्यमान किलोग्राम kg
3 समय सेकंड s
4 विद्युत धारा एंपियर A
5 ताप केल्विन K
6 ज्योति तीव्रता केन्डिलाCd
7 पदार्थ की मात्रा मोलmol

व्युत्पन्न मात्रक क्या है

जिन राशियों के मात्रक मूल मात्रकों से प्राप्त किए जा सकें व्युत्पन्न राशियां कहलाती हैं तथा इनके मात्रक व्युत्पन्न मात्रक कहलाते हैं।

                                   या

मूल राशियों के अतिरिक्त अन्य सभी राशियों के मात्रकों को मूल मात्रकों की सहायता से प्राप्त करते हैं इस प्रकार के प्राप्त मात्रक व्युत्पन्न मात्रक कहलाते हैं।

जैसे- चाल बल घनत्व त्वरण आदि व्युत्पन्न राशियां है इनका कोई भी मात्रक व्युत्पन्न मात्रक है।

जैसे-
        चाल का मात्रक           मीटर/सेकेंड
        आयतन का मात्रक          मीटर^3
        घनत्व का मात्रक         किलोग्राम/मीटर^3
        त्वरण का मात्रक         मीटर/सेकंड^2
       

अतः इस इस प्रकार से प्राप्त सभी मात्रक व्युत्पन्न मात्रक कहलाते है।

हमारे चैनल को सब्सक्राइब करके हमसे जुड़िये और पढ़िये नीचे दी गयी लिंक को टच करके विजिट कीजिये ।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर | difference between fundamental units and derived units

क्र०सं०मूल मात्रकव्युत्पन्न मात्रक
1मूल राशियों के मात्रक मूल मात्रक कहलाते हैं।व्युत्पन्न राशियों के मात्रक व्युत्पन्न मात्रक कहलाते हैं।
2मूल मात्रक एक दूसरे से पूर्णता स्वतंत्र होते हैं।यह मात्रक परस्पर स्वतंत्र नहीं होते क्योंकि इन्हें मूल मात्रकों की सहायता से प्राप्त किया जाता है।
3इनको अन्य मात्रको में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है।इनको अन्य मात्र को में परिवर्तित किया जा सकता है।
4मूल मात्रकों के मानकों (standards) की परिभाषा दी जा सकती है।इन मात्रकों के मानकों की परिभाषा नहीं दी जा सकती।
5इनकी संख्या 7 है।इनकी संख्या बहुत ज्यादा है।

यह भी पढ़िये

द्रव्यमान भार में अंतर

महत्वपूर्ण प्रश्न –

ये भी पढ़ें-  संघ सीलेन्ट्रेटा या निडेरिया : सामान्य लक्षण एवं इसके प्रमुख जंतु / information of coelenterata or cnidaria phylum in hindi

प्रश्न – 1 – लंबाई का मूल मात्रक क्या है ?

उत्तर – मीटर

प्रश्न – 2 – ज्योति तीव्रता का मूल मात्रक क्या है ?

उत्तर – केन्डिला

प्रश्न – 3 – द्रव्यमान का मूल मात्रक क्या है ?

उत्तर – किलोग्राम

प्रश्न – 4 – एम्पियर किसका मूल मात्रक है ?

उत्तर – विद्युत धारा

प्रश्न – 5 – केल्विन किसका मूल मात्रक है ?

उत्तर – ताप

दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं तथा इसे शेयर भी करें।

Tags-व्युत्पन्न मात्रक किसे कहते है,7 मूल मात्रक,मूल मात्रक कितने होते है,व्युत्पन्न मात्रक क्या है,मूल राशियाँ एवं उनके मात्रक,

आधारी राशि किसे कहते है,मूल मात्रक किसे कहते है,,मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक में अंतर,

difference between fundamental units and derived units,मापन और मात्रक pdf,s.i.मात्रक pdf,भौतिक राशियों के मात्रक pdf,व्युत्पन्न राशि किसे कहते है,मात्रक की पद्धति,

Leave a Comment