भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप

नमस्कार साथियों 🙏 आपका स्वागत है। आज हम आपको हिंदी विषय के अति महत्वपूर्ण पाठ भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप से परिचित कराएंगे।

दोस्तोंआपUPTET,CTET,HTET,BTC,DELED,SUPERTET, या अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते होंगे। आप जानते है की परीक्षाओं में हिंदी विषय का उतना ही स्थान है जितना अन्य विषयो का है।

इसीलिए हिंदी की महत्ता को देखते हुए हम आपके लिए अपनी वेबसाइट hindiamrit.com पर हिंदी के भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप पाठ का विस्तृत रूप से अध्ययन प्रदान कर रहे हैं। आप हमारी वेबसाइट पर हिंदी के समस्त पाठ का विस्तृत अधिगम प्राप्त कर सकेंगे।

Contents

भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप

Bhasha ki paribhasha,भाषा के विविध रूपों का वर्णन,भाषा के विविध रूप pdf,हिंदी भाषा के विविध रूपों को समझाइए,,हिंदी भाषा के विभिन्न रूप को समझाइए,bhasha ke prakar,हिंदी भाषा के कितने रूप होते हैं,हिंदी के विभिन्न रूप,हिंदी के विविध रूप pdf,हिंदी भाषा के विभिन्न रूपों का वर्णन कीजिए,bhasha ke kaushal,हिंदी के विभिन्न रूप pdf,हिंदी भाषा के विविध रूप को समझाइए,हिंदी भाषा का विकास,भाषा परिवर्तन के कारण,भाषा के कितने रूप होते हैं,भाषा के भेद बताइए,bhasha ke vividh roop,

Bhasha kise kahte hai, भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,भाषा के कितने भेद होते हैं,भाषा एवं उसके प्रकार,हिंदी भाषा के विभिन्न रूप,भाषा के प्रकार्य,bhasha avm uske prakar,भाषा के प्रकार pdf,मौखिक और लिखित भाषा के उदाहरण,भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप,
भाषा की विशेषताएँ,मौखिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा के कितने रूप होते हैं बताइए,लिखित भाषा के लाभ,भाषा कितने प्रकार की होती है,

भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा के विविध रूप,भाषा किसे कहते हैं, भाषा के प्रकार बताइए,भाषा की इकाई,भाषा की परिभाषा, संविधान में शामिल 22 भाषाओं के नाम,भाषा कौशल के प्रकार,भाषा की विशेषताएं,
bhasha kise kahte hai,bhasha avm uske prakar,bhasha ke vividh roop,

भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप

हमने आपको इस टॉपिक भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा के विविध रूप में क्या क्या पढ़ाया है?

(1) भाषा की परिभाषा
(2) भारत की भाषा हिंदी की उत्पत्ति
(3) संविधान में सम्मिलित भाषाएं
(4) भाषा परिवार
(5) भारत के भाषा परिवार
(6) भाषा के प्रकार या रूप
(7) भाषा के विविध रूप
(8) भाषा कौशल के प्रकार
(9) भाषा की इकाइयां
(10) भाषा की विशेषतायें
(11) भाषा का अध्ययन



भाषा की परिभाषा || भाषा किसे कहते हैं

मनुष्य एक विचारशील प्राणी है। एक सामाजिक प्राणी होने के नाते वह अपने भावों एवं विचारों का आदान-प्रदान अन्य लोगों से करता है। इस आदान-प्रदान के लिए वह अनेक साधन अपनाता है। उनमें से एक साधन है भाषा।

अतः भाषा वह साधन है जिसके माध्यम से मानव अपने भावों एवं विचारों का आदान प्रदान करता है।


भारत की भाषा – हिंदी | हिंदी की उत्पत्ति

हिंदी शब्द फारसी भाषा का है। हिंदी शब्द का सबसे पहले प्रयोग की ईरानियों ने किया था।

हिंदी शब्द का जन्म सिंधु शब्द से हुआ है।
सिंधु से हिंदु की रचना हुई। हिंदु से हिंद की , हिंद से हिंदीक और हिंदीक से हिंदी बनी।

हिंदी शब्द व्याकरण की दृष्टि से विशेषण है।

भारत की भाषा हिंदी है। हिंदी भाषा भारत की मातृभाषा है। औपचारिक रूप से हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा नहीं है। हिंदी को भारत की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया है।

आज हिंदी भाषा का क्षेत्र बहुत व्यापक हो गया है विश्व के 150 से अधिक विश्वविद्यालयों में हिंदी का अध्ययन अध्यापन कार्य होता है।

भारत के संविधान में कितनी भाषाओं को मान्यता दी गयी है?

भारत के संविधान में कुल 22 भाषाओं को मान्यता प्रदान की गई है।
जिनके नाम निम्नलिखित हैं:–

(1) असमिया    (2) उड़िया     (3) उर्दू      (4) कन्नड़     (5) कश्मीरी  (6) कोंकणी।     (7) गुजराती   (8) डोगरी    (9) तमिल    (10) तेलुगु    (11) नेपाली     (12) पंजाबी    (13) बांग्ला    (14) मणिपुरी  (15)  मलयालम।     (16) मैथिली      (17) संथाली       (18) संस्कृत     (19) मराठी      (20) सिंधी     (21) हिंदी।     (22) बोडो



ये भी पढ़ें-  हिंदी में संधि – परिभाषा,प्रकार,नियम,उदाहरण | sandhi in hindi

भाषा परिवार | हिंदी किस परिवार की भाषा है?

हमारी तरह भाषा के भी परिवार होते हैं।

एक मूल भाषा से निकली विभिन्न भाषाओं के समूह भाषा-परिवार कहे जाते हैं।

विश्व में कुल 12 भाषा परिवार है और उनसे निकली अनेक भाषाएं हैं।

हिंदी  भारोपीय (भारत + यूरोप) भाषा परिवार की भाषा है।

अंग्रेजी, जर्मन, फ्रांसीसी, रूसी, फारसी भी भारत यूरोपीय परिवार की भाषाएं हैं।

bhasha ki paribhasha,भाषा की आवश्यकता और महत्व,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा एवं उसके प्रकार,likhit bhasha ke roop,भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा के प्रकार,maukhik bhasha ke roop,भाषा की विशेषताएँ,भाषा के कितने रूप होते हैं,मौखिक और लिखित भाषा के उदाहरण,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,लिखित भाषा किसे कहते हैं,मौखिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा की प्रकृति एवं विशेषताएँ,भाषा की परिभाषा हिंदी मे,भाषा के कितने भेद होते हैं,savidhan me samil 22 bhashao ke nam,संविधान में सम्मिलित 22 भाषाओं के नाम,भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप,bhasha avm uske prakar,bhasha ke vividh roop,

भारत के भाषा परिवार | भारत में भाषा परिवार

भारत में मुख्यतः दो भाषा परिवार हैं

यहाँ पर  मुख्यतः दो भाषा परिवार हैं :–

(1) आर्य भाषा परिवार

उत्तर भारत की सभी भाषाएं आर्य भाषा परिवार की है। यह सभी संस्कृत से निकली भाषाएं हैं।

आर्य भाषा परिवार के अंतर्गत हिंदी, बांग्ला, असमिया,उड़िया, गुजराती, मराठी, पंजाबी, डोगरी आदि भाषाएं आती हैं।

(2) द्रविड़ भाषा परिवार

दक्षिण भारत के चारों प्रमुख भाषाएं द्रविड़ भाषा परिवार की हैं।

ग्रामीण भाषा परिवार के अंतर्गत तेलुगु, तमिल, कन्नड़, मलयालम आदि भाषाएं आती हैं।

भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा के विविध रूप,भाषा किसे कहते हैं, भाषा के प्रकार बताइए,भाषा की इकाई,भाषा की परिभाषा, संविधान में शामिल 22 भाषाओं के नाम,भाषा कौशल के प्रकार,भाषा की विशेषताएं,
bhasha ke prakar,bhasha kaushal ke prakar,

भाषा एवं उसके प्रकार || भाषा के रूप

Bhasha ke roop,भाषा के प्रकार,भाषा के रूप दो हैं :–

(1) मौखिक भाषा

जब हम अपने भावों और विचारों को मुंह से बोलकर व्यक्त करते हैं तो भाषा के स्वरूप को मौखिक भाषा कहते हैं। यह भाषा का अस्थाई रूप कहलाता है।

गाना सुनाना, बातचीत करना, भाषण देना, फोन पर बात करना,कविता सुनाना,दैनिक वार्तालाप,टेलीविजन पर उद्घोषक आदि भाषा मौखिक भाषा के उदाहरण हैं।


(2) लिखित भाषा

जब हम लिख कर अपने मन की बात प्रकट करते हैं तथा दूसरों तक पहुंच जाते हैं तो भाषा के इस रूप को लिखित भाषा कहते हैं।

लिखित भाषा में किसी विचार को लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है। यह भाषा का स्थाई रूप कहलाता है।

किताबों, पत्रिकाओं, पत्रों और अखबारों की भाषा, अध्यापक का लिखकर समझाना बच्चों का लिखकर सीखना निबंध कविता लिखना आदि भाषाएं लिखित भाषा के उदाहरण हैं।

लिखित भाषा किसे कहते हैं,मौखिक भाषा किसे कहते हैं,लिखित भाषा और मौखिक भाषा में क्या अंतर है,सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,भाषा की विशेषताएँ,भाषा की परिभाषा हिंदी मे,भाषा की परिभाषा लिखिए,भाषा की विशेषता बताइये,भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा की परिभाषा बताइए,भाषा की प्रकृति एवं विशेषताएँ,भाषा की विशेषता का वर्णन करें,भाषा किसे कहते हैं भाषा की परिभाषा,

भाषा के विविध रूप || भाषा के अन्य रूप

आइये जानते हैं भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा के विविध रूप

भाषा का अलग अलग स्थानों में अलग अलग प्रकार से उपयोग किया जाता है। भाषा को अलग अलग स्थानों में अलग अलग मान्यता भी दी जाती है।

भाषा के विविध रूप निम्नलिखित हैं।

(1) मातृभाषा

बच्चा जिस परिवार में जन्म लेता है। वह उसी परिवार की भाषा को बोलने और समझने लगता है वह भाषा उसकी मातृभाषा कहलाती है। इस मातृभाषा को वह जीवन भर कभी नहीं भूलता है।

(2) कृत्रिम भाषा

किसी प्रकार की भाषा को रिकॉर्ड किया जाए तो ऐसी भाषा कृत्रिम भाषा कहलाती है। कृत्रिम भाषा से छेड़छाड़ किया जा सकता है। अर्थात इसके शब्दों को परिवर्तित किया जा सकता है,इसकी आवाज को भी बदला जा सकता है।

ये भी पढ़ें-  विरोधाभास अलंकार - परिभाषा,उदाहरण | virodhabhas alankar in hindi | विरोधाभास अलंकार के उदाहरण

(3) कूट भाषा

यदि भाषा को किसी कोड द्वारा निरूपित किया जाए तो ऐसी भाषा कूट भाषा कहलाती है।

(4) विशिष्ट भाषा

किसी विशेष वस्तु की भाषा विशिष्ट भाषा कहलाती है।

जैसे कंप्यूटर के बायनरी भाषा विशिष्ट भाषा है।

(5) व्यक्तिबोली भाषा

व्यक्ति द्वारा किसी भाषा को बोलने का तरीका व्यक्ति बोली भाषा कहलाती है।

अर्थात

कुछ व्यक्ति किसी भाषा को अपने स्टाइल में ही बोलते हैं तो ऐसी भाषा व्यक्ति बोली भाषा कहलाती है।

(6) विभाषा या उपभाषा

भाषा का छोटा रूप उपभाषा या विभाषा कहलाता है। भाषा को पांच उप भाषाओं में बांटा गया है।

(7) राष्ट्र भाषा

जो भाषा किसी राज्य में सबसे अधिक विकसित हो जाती है। अर्थात बोली और समझी जाती है। उसका पूरे राष्ट्र में प्रचार-प्रसार हो जाता है। ऐसी भाषा राष्ट्र भाषा कहलाती है। वह भाषा उस राष्ट्र की पहचान होती है।

(8) राजभाषा

सरकारी कामकाज में जिस भाषा का प्रयोग किया जाता है उसे उस देश की राजभाषा कहते हैं।

भारत की राजभाषा हिंदी है। इसे भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 के अनुसार 14 सितंबर 1949 को भारत की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया।

(9) मानक भाषा

भाषा का शुद्ध प्रतिष्ठित रूप मानक भाषा कहलाता है।

जैसे – नयी का मानक रूप नई है। ठण्डा का मानक रूप ठंडा है।

(10) अमानक भाषा

मानक भाषा का उल्टा अमानक भाषा कहलाता है।

जैसे- ठण्डा,नयी आदि अमानक रूप है।

तो यह रहे कुल 10 भाषा के विविध रूप

भाषा के कौशल || भाषा कौशल के प्रकार

भाषा के 4 कौशल होते हैं :–

(1) सुनना

(2) बोलना

(3) पढ़ना

(4)  लिखना

भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा के विविध रूप,भाषा किसे कहते हैं, भाषा के प्रकार बताइए,भाषा की इकाई,भाषा की परिभाषा, संविधान में शामिल 22 भाषाओं के नाम,भाषा कौशल के प्रकार,भाषा की विशेषताएं,
bhasha ki ikai,bhasha ki paribhasha,

भाषा की इकाइयां

(1) वर्ण

भाषा की सबसे छोटी इकाई ध्वनि है। ध्वनि का लिखित रूप वर्ण कहलाता है।

जैसे – क ,ख,ग……आदि।

(2) शब्द


वर्णों को मिलाने से शब्दों की रचना होती है।

जैसे – क + म + ल = कमल ।

(3) पद

वाक्य में प्रयुक्त शब्द पद कहलाते हैं।
जैसे- रमा घर जाती है। तो यहाँ रमा,घर,जाती,है, आदि शब्द पद हैं।

(4) वाक्य

शब्दों का समूह जिनका एक सार्थक अर्थ हो वाक्य कहलाते हैं।

जैसे- राम विद्यालय जाता है।


भाषा की विशेषतायें || भाषा के गुण

(1) यह विचारों का आदान प्रदान करने का माध्यम है।

(2) भाषा प्रतीकात्मक एवं ध्वनिमय है।

(3) भाषा की क्षेत्रीय सीमा होती है।

(4) भाषा परिवर्तनशील है।

(5) भाषा सरलता एवं प्रौढ़ता की दिशा में सतत गतिशील होती है।

(6) भाषा जटिल से सरल की ओर चलती है।

(7) भाषा संयोग से वियोग की ओर चलती है।

(8) भाषा के द्वारा ही समस्त क्रियाएं,जगत के सभी कार्य,विविध गतिविधियां सम्भव हो पाती है।

मौखिक भाषा किसे कहते हैं,लिखित भाषा और मौखिक भाषा में क्या अंतर है,सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,भाषा की विशेषताएँ,भाषा की परिभाषा हिंदी मे,भाषा की परिभाषा लिखिए,भाषा की विशेषता बताइये,भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा की परिभाषा बताइए,भाषा की प्रकृति एवं विशेषताएँ,भाषा की विशेषता का वर्णन करें,भाषा किसे कहते हैं भाषा की परिभाषा,

भाषा का अध्ययन | भाषा की पद्धतियाँ

भाषा के अध्ययन की दो पद्धतियाँ हैं :–

(1) आकृति के आधार पर

(2)  पारिवारिक के आधार पर

bhasha ki paribhasha,भाषा की आवश्यकता और महत्व,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा एवं उसके प्रकार,likhit bhasha ke roop,भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा के प्रकार,maukhik bhasha ke roop,भाषा की विशेषताएँ,भाषा के कितने रूप होते हैं,मौखिक और लिखित भाषा के उदाहरण,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,लिखित भाषा किसे कहते हैं,मौखिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा की प्रकृति एवं विशेषताएँ,भाषा की परिभाषा हिंदी मे,भाषा के कितने भेद होते हैं,savidhan me samil 22 bhashao ke nam,संविधान में सम्मिलित 22 भाषाओं के नाम,भाषा एवं उसके प्रकार,भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप,bhasha avm uske prakar,bhasha ke vividh roop,

ये भी पढ़ें-  डाटा सुरक्षा : वायरस और एंटीवायरस / कंप्यूटर वायरस के प्रकार

भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप टॉपिक से जुड़े परीक्षा उपयोगी प्रश्न

प्रश्न-1- हमारे देश में हिंदी दिवस कब मनाया जाता है?
उत्तर- 14 सितंबर

प्रश्न-2- मातृभाषा किसे कहते हैं?
उत्तर- माँ या परिवार में सीखी गई भाषा मातृभाषा कहलाती है।

प्रश्न-3- हमारे संविधान में कितनी भाषाओं को मान्यता प्रदान की गई है?
उत्तर- 22 भाषाओं को।

प्रश्न-4- हिंदी हमारे देश की क्या है?
उत्तर- हिंदी हमारे देश की राजभाषा है ना की राष्ट्रभाषा।

प्रश्न-5- हिंदी शब्द किस धातु से बना है?
उत्तर- हिन धातु से जिसका अर्थ हिंसा होता है।

प्रश्न-6- हिंदी शब्द व्याकरण की दृष्टि से क्या है?
उत्तर- विशेषण

प्रश्न-7- हिंदी शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग किसने किया था?
उत्तर- ईरानियों ने।

प्रश्न-8- हिंदी किस परिवार की भाषा है?
उत्तर- भारोपीय (भारत + यूरोप)

प्रश्न-9- हिंदी की उत्पत्ति किस भाषा से हुई है?
उत्तर- संस्कृत भाषा से।

प्रश्न-10- हिंदी किस भाषा का शब्द है?
उत्तर- फ़ारसी भाषा का

प्रश्न-11- हिंदी को राजभाषा के रूप में कब स्वीकार किया गया?
उत्तर- 14 सितंबर 1949

प्रश्न-12- हिंदी को राजभाषा का दर्जा संविधान के किस अनुच्छेद के अंतर्गत दिया गया है?
उत्तर- 343वाँ अनुच्छेद।

👉 सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण पढ़िये टच करके

» भाषा » बोली » लिपि » वर्ण » स्वर » व्यंजन » शब्द  » वाक्य »वाक्य परिवर्तन » वाक्य शुद्धि » संज्ञा » लिंग » वचन » कारक » सर्वनाम » विशेषण » क्रिया » काल » वाच्य » क्रिया विशेषण » सम्बंधबोधक अव्यय » समुच्चयबोधक अव्यय » विस्मयादिबोधक अव्यय » निपात » विराम चिन्ह » उपसर्ग » प्रत्यय » संधि » समास » रस » अलंकार » छंद » विलोम शब्द » तत्सम तत्भव शब्द » पर्यायवाची शब्द » शुद्ध अशुद्ध शब्द » विदेशी शब्द » वाक्यांश के लिए एक शब्द » समानोच्चरित शब्द » मुहावरे » लोकोक्ति » पत्र » निबंध

👉 यूपीटेट बाल मनोविज्ञान समस्त चैप्टर पढ़िये

यूपीटेट हिंदी सिलेबस (विस्तार से)

final words

आशा है दोस्तों आपको यह टॉपिक भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप पढ़कर पसन्द आया होगा। इस टॉपिक से जुड़ी सारी समस्याएं आपकी खत्म हो गयी होगी। और जरूर अपने इस टॉपिक से बहुत कुछ नया प्राप्त किया होगा।

हमें कमेंट करके जरूर बताये की आपको पढ़कर कैसा लगा।हम आपके लिए हिंदी के समस्त टॉपिक लाएंगे।

दोस्तों भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिए।

हमारा यू ट्यूब चैनल सब्सक्राइब करके हमसे जुड़े।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

Tags- भाषा के विविध रूपों का वर्णन,भाषा के विविध रूप pdf,हिंदी भाषा के विविध रूपों को समझाइए,,हिंदी भाषा के विभिन्न रूप को समझाइए,bhasha ke prakar,हिंदी भाषा के कितने रूप होते हैं,हिंदी के विभिन्न रूप,हिंदी के विविध रूप pdf,हिंदी भाषा के विभिन्न रूपों का वर्णन कीजिए,bhasha ke kaushal,हिंदी के विभिन्न रूप pdf,हिंदी भाषा के विविध रूप को समझाइए,हिंदी भाषा का विकास,भाषा परिवर्तन के कारण,भाषा के कितने रूप होते हैं,भाषा के भेद बताइए,

bhasha ke vividh roop,भाषा कितने प्रकार की होती है,भाषा की परिभाषा और उसके भेद,भाषा की परिभाषा उदाहरण सहित,भाषा के कितने भेद होते हैं,भाषा एवं उसके प्रकार,हिंदी भाषा के विभिन्न रूप,भाषा के प्रकार्य,bhasha avm uske prakar,भाषा के प्रकार pdf,मौखिक और लिखित भाषा के उदाहरण,भाषा एवं उसके प्रकार | भाषा के विविध रूप,भाषा की विशेषताएँ,मौखिक भाषा किसे कहते हैं,भाषा के कितने रूप होते हैं बताइए,लिखित भाषा के लाभ,भाषा कितने प्रकार की होती है,लिखित भाषा किसे कहते हैं,

Leave a Comment