शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान

बीटीसी एवं सुपरटेट की परीक्षा में शामिल शिक्षण कौशल के विषय आरंभिक स्तर पर भाषा का पठन लेख एवं गणितीय क्षमता का विकास में सम्मिलित चैप्टर शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान आज हमारी वेबसाइट hindiamrit.com का टॉपिक हैं।

शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान

शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान
शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान


बलाघात के स्थान / शब्द में बलाघात के नियम

बल (Stress)-बलात्मक, स्वराघात और बलाघात का बोलने में उस समय प्रयोग किया जाता है, जब कोई शब्द एक से अधिक अक्षर (Syllable) का होता है।

बलाघात के नियम

(1) एकाक्षर शब्दों में बलाघात उसी शब्द पर दिया जाता है, जैसे-जा, आ आदि।

(2) एक से अधिक अक्षर वाले शब्दों में यदि सभी अक्षर हस्व हों तो अन्तिम अक्षर से पूर्व के अक्षर पर बलाघात दिया जाता है।

(3) यदि शब्द में संयुक्त अक्षर का प्रयोग हुआ हो तो बलाघात संयुक्त व्यंजन के पूर्ववर्ती अक्षर पर दिया जाता है, जैसे-मिथ्या शब्द में बल ‘मि’ अक्षर पर दिया जायेगा।

(4) विसर्ग युक्त अक्षर वाले शब्द में बलाघात उसी अक्षर पर दिया जाता है जिसके बाद में विसर्ग का प्रयोग होता है, जैसे-दुःख में बलाघात ‘दु’ अक्षर पर है।

बलाघात के स्थान

(1) अकारान्त दो अक्षरों के शब्द के प्रथम अक्षर पर बलाघात रहता है, जैसे-घर, जन आदि।

(2) अकारान्त तीन अक्षरों के शब्द के द्वितीय अक्षर पर बलाघात रहता है, जैसे-कमल, अचल आदि।

(3) संयुक्त व्यंजन के पूर्ववर्ती अक्षर पर भी बलाघात होता है, जैसे-सत्य, मिथ्या आदि।

ये भी पढ़ें-  [ NCF 2005 ] राष्ट्रीय पाठ्यक्रम संरचना 2005 का स्वरूप / NCF 2005 का स्वरूप / Form of NCF 2005 in hindi

(4) सम्पूर्ण वाक्य में अर्थ के अनुसार किसी शब्द पर बलाघात दिया जाता है। जैसे-‘यह राम का घोड़ा है’ में यदि वक्ता यह कहना चाहता है कि वह घोड़ा किसी ओर का नहीं है। केवल राम का ही है तो वह राम शब्द पर बलाघात देगा, किन्तु यदि वह यह कहना चाहे कि यही घोड़ा और दूसरा कोई नहीं राम का है तो वह कहेगा, यह राम का घोड़ा है। बलाघात ‘यह’ पर दिया जायेगा।

(5) तीन अक्षर वाले शब्दों में यदि मध्य अक्षर दीर्घ हो तो बलाघात उसी दीर्घ अक्षर पर दिया जाता है, जैसे-‘मसाला’ शब्द में बलाघात ‘सा’ अक्षर पर होगा।

(6) स्वर के पश्चात् मध्य अथवा अन्य स्थिति के य और व व्यंजनों से पूर्ववर्ती व्यंजन का उच्चारण द्वितीय रूप में किया जाता है और वहीं बल पड़ता है, जैसे- उपन्यास को उपन्न्यास बोला जाता है।

वाक्यों के उच्चारण में बलाघात

जिस प्रकार शब्दों के उच्चारण में बलाघात दिया जाता है। उसी प्रकार वाक्यों के उच्चारण में भी बलाघात देते हैं । सम्पूर्ण वाक्य में अर्थ के अनुसार किसी विशेष शब्द पर बलाघात रहता है; जैसे-यह राम का घोड़ा है। यदि यह कहना अभीष्ट है कि वह राम का ही घोड़ा है तो राम पर बलाघात दिया जायेगा। यदि यह कहना अभीष्ट हो कि यह और कोई दूसरा नहीं तो यह शब्द पर बल दिया जायेगा।

आपके लिए महत्वपूर्ण लिंक

टेट / सुपरटेट सम्पूर्ण हिंदी कोर्स

टेट / सुपरटेट सम्पूर्ण बाल मनोविज्ञान कोर्स

50 मुख्य टॉपिक पर  निबंध पढ़िए

Final word

आपको यह टॉपिक कैसा लगा हमे कॉमेंट करके जरूर बताइए । और इस टॉपिक शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान को अपने मित्रों के साथ शेयर भी कीजिये ।

ये भी पढ़ें-  समावेशी शिक्षा किसे कहते हैं / शैक्षिक समावेशन का अर्थ,परिभाषा,प्रकार,विशेषताएं,उद्देश्य,पहचान

Tags – शब्द में बलाघात के नियम / बलाघात के स्थान


Leave a Comment