मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में | essay on my favorite poet in hindi

समय समय पर हमें छोटी कक्षाओं में या बड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं में निबंध लिखने को दिए जाते हैं। निबंध हमारे जीवन के विचारों एवं क्रियाकलापों से जुड़े होते है। आज hindiamrit.com  आपको निबंध की श्रृंखला में  मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi प्रस्तुत करता है।

Contents

मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi

इस निबंध के अन्य शीर्षक / नाम

(1) तुलसीदास पर निबंध हिंदी में
(2) मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में
(3) my favorite poet essay in hindi
(4) mere priy kavi par niband hindi me

मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi

पहले जान लेते है मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi की रूपरेखा ।

निबंध की रूपरेखा

(1) प्रस्तावना
(2) तत्कालीन परिस्थितियां
(3) तुलसीकृत रचनाएं
(4) तुलसीदास एक लोक नायक के रूप में
(5) तुलसी के राम
(6) तुलसी की निष्काम भक्ति भावना
(7) तुलसी की समन्वय साधना
(क) सगुण निर्गुण का समन्वय
(ख) कर्म ज्ञान एवं भक्ति का समन्वय
(ग) युगधर्म समन्वय
(घ) साहित्यिक समन्वय
(8) तुलसी के दार्शनिक विचार
(9) उपसंहार

मेरे प्रिय कवि निबंध,मेरे प्रिय कवि का निबंध,मेरे प्रिय कवि हिंदी निबंध,मेरे प्रिय हिंदी कवि निबंध,मेरे प्रिय साहित्यकार निबंध,मेरा प्रिय साहित्यकार हिंदी निबंध,mera priya hindi kavi,मेरा प्रिय कवि निबंध,मेरा प्रिय कवि निबंध हिंदी में,mera priya kavi par nibandh hindi mein,मेरा प्रिय कवि पर निबंध इन हिंदी,मेरे प्रिय कवि पर निबंध,मेरा प्रिय हिंदी कवि पर निबंध,मेरा प्रिय कवि पर निबंध,प्रिय कवि पर निबंध,हमारे प्रिय कवि पर निबंध,मेरा प्रिय हिंदी कवि निबंध,मेरा पिय कवि पर निबंध,मेरे प्रिय कवि निबंध,निबंध मेरा प्रिय कवि,निबंध मेरे प्रिय कवि,essay on my favourite poet in hindi,


मेरे प्रिय कवि तुलसीदास पर निबंध | मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi

प्रस्तावना

यद्यपि मैंने बहुत अधिक अध्ययन नहीं किया है, तथापि भक्तिकालीन कवियों में कबीर, सूर, तुलसी और मीरा तथा आधुनिक कवियों में प्रसाद, पन्त और महादेवी के काव्य का रसास्वादन अवश्य किया है।

इन सभी कवियों के काव्य का अध्ययन करते समय तुलसी के काव्य की अलौकिकता के समक्ष मैं सदैव नत-मस्तक होता रहा हूँ।

उनकी भक्ति-भावना, समन्वयात्मक दृष्टिकोण तथा काव्य-सौष्ठव ने मुझे स्वाभाविक रूप से आकृष्ट किया है।






तत्कालीन परिस्थितियाँ

तुलसीदास का जन्म ऐसी विषम परिस्थितियों में हुआ था, जब हिन्दू समाज अशक्त होकर विदेशी चंगुल में फँस चुका था।

हिन्दू समाज की संस्कृति और सभ्यता प्रायः विनष्ट हो चुकी थी और कहीं कोई पथ-प्रदर्शक नहीं था।

इस युग में जहाँ एक ओर मन्दिरों का विध्वंस किया गया, ग्रामों व नगरों का विनाश हुआ, वहीं संस्कारों की भ्रष्टता भी चरम सीमा पर पहुँच गयी।

इसके अतिरिक्त तलवार के बल पर हिन्दुओं को मुसलमान बनाया जा रहा था। सर्वत्र धार्मिक विषमताओं का ताण्डव हो रहा था और विभिन्न सम्प्रदायों ने अपनी-अपनी डफली, अपना-अपना राग अलापना आरम्भ कर दिया था।

ये भी पढ़ें-  दूरदर्शन का महत्व पर निबंध | दूरदर्शन के लाभ और हानि पर निबंध | essay on doordarshan in hindi

ऐसी परिस्थिति में भोली-भाली जनता यह समझने में असमर्थ थी कि वह किस सम्प्रदाय का आश्रय ले।

उस समय दिग्भ्रमित जनता को ऐसे नाविक की आवश्यकता थी, जो उसके नैतिक जीवन की नौका की पतवार सँभाल ले। गोस्वामी तुलसीदास ने अन्धकार के गर्त में डूबी हुई जनता के समक्ष भगवान् राम का लोकमंगलकारी रूप प्रस्तुत किया और उसमें अपूर्व आशा एवं शक्ति का संचार किया।

युगद्रष्टा तुलसी ने अपनी अमर कृति ‘श्रीरामचरितमानस’ द्वारा भारतीय समाज में व्याप्त विभिन्न मतों, सम्प्रदायों एवं धाराओं में समन्वय स्थापित किया।

उन्होने अपने युग को नवीन दिशा, नयी गति एवं नवीन प्रेरणा दी। उन्होंने सच्चे लोकनायक के समान समाज में व्याप्त वैमनस्य की चौड़ी खाई को पाटने का सफल प्रयत्न किया।




तुलसीकृत रचनाएँ

तुलसीदास जी द्वारा लिखित 12 ग्रन्थ प्रामाणिक माने जाते हैं। ये ग्रन्थ हैं- श्रीरामचरितमानस’,विनयपत्रिका’, ‘गीतावली’, ‘कवितावली’, ‘दोहावली’, ‘रामललानहरछू’, ‘पार्वती-मंगल’, ‘जानकी-मंगल, ‘बरवे रामायण’,वैराग्य संदीपनी’, ‘श्रीकृष्णगीतावली’ तथा ‘रामाज्ञा प्रश्नावली’।

तुलसी की ये रचनाएँ विश्व-साहित्य की अनुपम निधि हैं।







तुलसीदासः: एक लोकनायक के रूप में

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का कथन है-लोकनायक वही हो सकता है, जो समन्वय कर सके; क्योंकि भारतीय समाज में नाना प्रकार की परस्पर विरोधी संस्कृतियाँ, साधनाएँ, जातियाँ आचारनिष्ठा और विचार-पद्धतियाँ प्रचलित हैं।

बुद्धदेव समन्वयकारी थे, ‘गीता’ ने समन्वय की चेष्टा की और तुलसीदास भी समन्वयकारी थे।”






तुलसी के राम

तुलसी उन राम के उपासक थे, जो सच्चिदानन्द परब्रह्म हैं; जिन्होने भूमि का भार हरण करने के लिए पृथ्वी पर अवतार लिया था-

जब-जब होइ धरम कै हानी। बाढ़हिं असुर अधम अभिमानी
तब-तब प्रभु धरि बिबिध सरीरा। हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा ॥

तुलसी ने अपने काव्य में सभी देवी देवताओं की स्तुति की है, लेकिन अन्त में वे यही कहते हैं-

माँगत तुलसीदास कर जोरे। बसहिं रामसिय मानस मोरे ॥

राम के प्रति उनकी अनन्य भक्ति अपनी चरम-सीमा छूती है और वे कह उठते हैं कि-

करूँ कहाँ तक राम बड़ाई। राम न सकहिं, राम गुन गाही ॥

तुलसी के समक्ष ऐसे राम का जीवन था, जो मर्यादाशील थे और शक्ति एवं सौन्दर्य के अवतार थे।








तलसीदास की निष्काम भक्ति

भावना-सच्ची भक्ति वही है, जिसमें लेन-देन का भाव नहीं होता। भक्त के लिए भक्ति का आनन्द ही उसका फल है।

ये भी पढ़ें-  विज्ञान की प्रगति पर निबंध | विज्ञान के चमत्कार पर निबंध | essay on Wonder of science in hindi

तुलसी के अनुसार

मो सम दीन न दीन हित,तुम समान रघुवीर ।
अस बिचारि रघुबंसमनि, हरहु विषम भव भीर ।।







तुलसी का समन्वय-साधना

तुलसी के काव्य की सर्वप्रमुख विशेषता उसमें निहित समन्वय की प्रवृत्ति है। इस प्रवृत्ति के कारण ही वे वास्तविक अर्थों में लोकनायक कहलाये।

उनके काव्य में समन्वय के निम्नलिखित रूप दृष्टिगत होते हैं-



(क) संगुण-निर्गुण का समन्वय

जब ईश्वर के सगुण एवं निर्गुण दोनों रूपो से सम्बन्धित विवाद, दर्शन एवं भक्ति दोनों ही क्षेत्रों में प्रचलित था तो तुलसीदास ने कहा-

सगुनहिं अगुनहिं नहिं कछु भेदा। गावहिं मुनि पुरान बुध बेदा



(ख) कर्म, ज्ञान एवं भक्ति का समन्वय

तुलसी की भक्ति मनुष्य को संसार से विमुख करके अकर्मण्य बनाने वाली नहीं है, उनकी भक्ति तो सत्कर्म की प्रबल प्रेरणा देने वाली है।

उनका सिद्धान्त है कि राम के समान आचरण करो, रावण के सदृश दुष्कर्म नहीं-

भगतिहिं ग्यानहिं नहिं कछु भेदा। उभय हरहिं भव-संभव खेदा

तुलसी ने ज्ञान और भक्ति के धागे में राम-नाम का मोती पिरो दिया है-

हिय निर्गुन नयनन्हि सगुन, रसना राम सुनाम ।
मनहुँ पुरट संपुट लसत, तुलसी ललित ललाम॥





(ग) युगधर्म-समन्वय

भक्ति की प्राप्ति के लिए अनेक प्रकार के बाह्य तथा आन्तरिक साधनों की आवश्यकता होती है।

ये साधन प्रत्येक युग के अनुसार बदलते रहते हैं और उन्हीं को युगधर्म की संज्ञा दी जाती है। तुलसी ने इनका भी विलक्षण समन्वय प्रस्तुत किया है –

कृतजुग त्रेता द्वापर,पूजा मख अरु जोग ।
जो गति होइ सो कलि हरि, नाम ते पावहिं लोग॥




(घ) साहित्यिक समन्वय

साहित्यिक क्षेत्र में भाषा, छन्द, रस एवं अलंकार आदि की दृष्टि से भी तुलसी ने अनुपम समन्वय स्थापित किया।

उस समय साहित्यिक क्षेत्र में विभिन्न भाषाएँ विद्यमान थीं, विभिन्न छन्दों में रचनाएँ की जाती थीं तुलसी ने अपने काव्य में भी संस्कृत, अवधी तथा ब्रजभाषा का अद्भुत समन्वय किया।





तुलसी के दार्शनिक विचार

तुलसी ने किसी विशेष वाद को स्वीकार नहीं किया। उन्होंने वैष्णव धर्म को इतना व्यापक रूप प्रदान किया कि उसके अन्तर्गत शैव, शाक्त और पुष्टिमार्गी भी सरलता से समाविष्ट हो गये वस्तुतः तुलसी भक्त हैं और इसी आधार पर वह अपना व्यवहार निश्चित करते हैं।

उनकी भक्ति सेवक-सेव्य भाव की है। वे स्वयं को राम का सेवक मानते हैं और राम को अपना स्वामी।






ये भी पढ़ें-  प्रकृति की सुबह पर निबंध | प्रकृति पर निबंध | essay on nature in hindi

उपसंहार

तुलसी ने अपने युग और भविष्य, स्वदेश और विश्व तथा व्यक्ति और समाज आदि सभी के लिए महत्त्वपूर्ण सामग्री दी है।

तुलसी को आधुनिक दृष्टि ही नहीं, प्रत्येक युग की दृष्टि मूल्यवान् मानेगी; क्योंकि मणि की चमक अन्दर से आती है, बाहर से नहीं।

तुलसी के सम्बन्ध में हरिऔध जी के हृदय से स्वतः फूट पड़ी प्रशस्ति अपनी समीचीनता में बेजोड़ है-

“बन रामरसायन की रसिका, रसना रसिकों की हुई सुफला।
अवगाहन मानस में करके, मन-मानस का मल सारा टला॥
बनी पावन भाव की भूमि भली, हुआ भावुक भावुकता का भला।
कविता करके तुलसी न लसे, कविता लसी पा तुलसी की कला ॥”

सचमुच कविता से तुलसी नहीं, तुलसी से कविता गौरवान्वित हुई। उनकी समर्थ लेखनी का सम्बल पा वाणी धन्य हो उठी।

तुलसीदास जी के इन्हीं सब गुणों का ध्यान आते ही मन श्रद्धा से परिपूरित हो उन्हें अपना प्रिय कवि मानने को विवश हो जाता है।





दोस्तों हमें आशा है की आपको यह निबंध अत्यधिक पसन्द आया होगा। हमें कमेंट करके जरूर बताइयेगा आपको मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi कैसा लगा ।

आप मेरे प्रिय कवि पर निबंध हिंदी में |  essay on my favorite poet in hindi को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजियेगा।

सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण पढ़िये ।

» भाषा » बोली » लिपि » वर्ण » स्वर » व्यंजन » शब्द  » वाक्य » वाक्य शुद्धि » संज्ञा » लिंग » वचन » कारक » सर्वनाम » विशेषण » क्रिया » काल » वाच्य » क्रिया विशेषण » सम्बंधबोधक अव्यय » समुच्चयबोधक अव्यय » विस्मयादिबोधक अव्यय » निपात » विराम चिन्ह » उपसर्ग » प्रत्यय » संधि » समास » रस » अलंकार » छंद » विलोम शब्द » तत्सम तत्भव शब्द » पर्यायवाची शब्द » शुद्ध अशुद्ध शब्द » विदेशी शब्द » वाक्यांश के लिए एक शब्द » समानोच्चरित शब्द » मुहावरे » लोकोक्ति » पत्र » निबंध

सम्पूर्ण बाल मनोविज्ञान पढ़िये uptet / ctet /supertet

प्रेरक कहानी पढ़िये।

हमारे चैनल को सब्सक्राइब करके हमसे जुड़िये और पढ़िये नीचे दी गयी लिंक को टच करके विजिट कीजिये ।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

Leave a Comment