भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध

समय समय पर हमें छोटी कक्षाओं में या बड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं में निबंध लिखने को दिए जाते हैं। निबंध हमारे जीवन के विचारों एवं क्रियाकलापों से जुड़े होते है। आज hindiamrit.com  आपको निबंध की श्रृंखला में  भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध प्रस्तुत करता है।

Contents

भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध

इस निबंध के अन्य शीर्षक / नाम

(1) कृषि क्रांति पर निबंध हिंदी में
(2) भारत में कृषि क्रांति पर निबंध
(3) bharat me krishi kranti par nibandh

Tags -भारत में कृषि क्रांति,भारत में प्रमुख कृषि क्रांति,भारत की कृषि क्रांति,कृषि क्रांति,प्रमुख कृषि क्रांति,कृषि से संबंधित क्रांति,भारत में कृषि क्रांतियां,krishi par nibandh,किसान आंदोलन पर निबंध,बिजोलिया किसान आंदोलन पर निबंध लिखिए,कृषक आंदोलन क्या है,कृषक आंदोलन,कृषक आंदोलन के कारण,कृषक आंदोलन इन इंडिया,भारत में कृषि क्रांति पर निबंध,कृषक आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक की दशा पर निबंध,

सीकर किसान आंदोलन पर एक निबंध लिखिए,मजदूर आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक आंदोलन,भारत में कृषक आंदोलन के कारण,भारत में कृषि की विशेषताएं,भारत में कृषि की समस्या,भारत में कृषि की स्थिति,भारतीय कृषि पर लेख,भारतीय कृषि पर निबंध,भारत की कृषि,भारत में कृषि,भारत के कृषि,भारतीय कृषि का महत्व,कृषि पर निबंध,कृषक आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक की दशा पर निबंध,




भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध

पहले जान लेते है भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध की रूपरेखा ।

निबंध की रूपरेखा

(1) प्रस्तावना
(2)  किसानों की समस्याएं
(3) कृषक संगठन व उसकी मांग
(4) कृषक आंदोलनों के कारण
(5) उपसंहार

सीकर किसान आंदोलन पर एक निबंध लिखिए,मजदूर आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक आंदोलन,भारत में कृषक आंदोलन के कारण,भारत में कृषि की विशेषताएं,भारत में कृषि की समस्या,भारत में कृषि की स्थिति,भारतीय कृषि पर लेख,भारतीय कृषि पर निबंध,भारत की कृषि,भारत में कृषि,भारत के कृषि,भारतीय कृषि का महत्व,कृषि पर निबंध,भारत में कृषि क्रांति पर निबंध,कृषक आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक की दशा पर निबंध,



भारत में कृषि क्रांति पर निबंध,कृषक आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक की दशा पर निबंध,bharat me krishi kranti par nibandh,krishak andolan par nibandh,




भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध

प्रस्तावना

हमारा देश कृषि प्रधान है और सच तो यह है कि कृषि क्रिया-कलाप ही देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है।

ग्रामीण क्षेत्रों की तीन-चौथाई से अधिक आबादी अब भी कृषि एवं कृषि से संलग्न क्रिया-कलापों पर निर्भर है।

भारत में कृषि मानसून पर आश्रित है और इस तथ्य से सभी परिचित हैं कि प्रत्येक वर्ष देश का एक बहुत बड़ा हिस्सा सूखे एवं बाढ़ की चपेट में आता हैं।

कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था, भारतीय जन-जीवन का प्राणत्त्व है। अंग्रेजी शासन-काल में भारतीय कृषि का पर्याप्त हास हुआ।

ये भी पढ़ें-  विज्ञान : वरदान या अभिशाप पर निबंध | विज्ञान एक वरदान या अभिशाप है पर निबंध | essay on science : blessing or curse in hindi


किसानों की समस्याएँ

भारतीय अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। भारत की अधिकांश जनता गाँवों में बसती है। यद्यपि किसान समाज का कर्णधार है किन्तु इनकी स्थिति अब भी बदतर है।

उसकी मेहनत के अनुसार उसे पारितोषिक नहीं मिलता है। यद्यपि सकल घरेलू उत्पाद में कृषि-क्षेत्र का योगदान 30 प्रतिशत है, फिर भी भारतीय कृषक की दशा शोचनीय है।

देश की आजादी की लड़ाई में कृषकों की एक वृहत् भूमिका रही। चम्पारण आन्दोलन अंग्रेजों के खिलाफ एक खुला संघर्ष था।

स्वातन्त्र्योत्तर जमींदारी प्रथा का उन्मूलन हुआ। किसानों को भू-स्वामित्व का अधिकार मिला। हरित कार्यक्रम भी चलाया गया और परिणामत: खाद्यान्न उत्पादकता में वृद्धि हुई; किन्तु इस हरित क्रान्ति का विशेष लाभ सम्पन्न किसानों तक ही सीमित रहा।

लघु एवं सीमान्त कृषकों की स्थिति में कोई आशानुरूप सुधार नहीं हुआ।

आजादी के बाद भी कई राज्यों में किसानों को भू-स्वामित्व नहीं मिला जिसके विरुद्ध बंगाल, बिहार एवं आन्ध्र प्रदेश में नक्सलवादी आन्दोलन प्रारम्भ हुए।




कृषक संगठन व उनकी माँग

किसानों को संगठित करने का सबसे बड़ा कार्य महाराष्ट्र में शरद जोशी ने किया।

किसानों को उनकी पैदावार का समुचित मूल्य दिलाकर उनमें एक विश्वास पैदा किया कि वे संगठित होकर अपनी स्थिति में सुधार ला सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के किसान नेता महेन्द्र सिंह टिकैत ने किसानों की दशा में बेहतर सुधार लाने के लिए एक आन्दोलन चलाया
है और सरकार को इस बात का अनुभव करा दिया कि किसानों की उपेक्षा नहीं की जा सकती है।

टिकैत के आन्दोलन ने किसानों के मन में कमोवेश यह भावना भर दी कि वे भी संगठित होकर अपनी आर्थिक उन्नति कर सकते हैं। किसान संगठनों को सबसे पहले इस बारे में विचार करना होगा कि “आर्थिक दृष्टि से अन्य वर्गों के साथ उनका क्या सम्बन्ध है।

उत्तर प्रदेश की सिंचित भूमि की हदबन्दी सीमा 18 एकड़ है। जब किसान के लिए सिंचित भूमि 18 एकड़ है, तो उत्तर प्रदेश की किसान यूनियन इस मुद्दे को उजागर करना चाहती है कि 18 एकड़ भूमि को सम्पत्ति-सीमा का आधार मानकर अन्य वर्गों की सम्पत्ति अर्थवा आय-सीमा निर्धारित होनी चाहिए।

कृषि पर अधिकतम आय की सीमा साढ़े बारह एकड़ निश्चित हो गयी, किन्तु किसी व्यवसाय पर कोई भी प्रतिबन्ध निर्धारित नहीं हुआ। अब प्रौद्योगिक क्षेत्र में बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ भी शनै:-शनै: हिन्दुस्तान में अपना प्रभाव क्षेत्र बढ़ाती जा रही हैं।

किसान आन्दोलन इस विषमता एवं विसंगति को दूर करने के लिए भी संघर्षरत है। वह चाहता है कि भारत में समाजवाद की स्थापना हो, जिसके लिए सभी प्रकार के पूँजीवाद तथा इजारेदारी का अन्त होना परमावश्यक है।

यूनियन की यह भी माँग है कि वस्तु विनिमय के अनुपात से कीमतें निर्धारित की जाएँ, न कि विनिमय का माध्यम रुपया माना जाए।

ये भी पढ़ें-  साहित्य और समाज पर निबंध | essay on literature and life in hindi | साहित्य और जीवन पर निबंध

यह तभी सम्भव होगा जब उत्पादक और उपभोक्ता दोनों रूपों में किसान के शोषण को समाप्त किया जा सके। सारांश यह है कि कृषि उत्पाद की कीमतों को आधार बनाकर ही अन्य औद्योगिक उत्पादों की कीमतों को निर्धारित किया जाना चाहिए।”

किसान यूनियन किसानों के लिए वृद्धावस्था पेंशन की पक्षधर है। कुछ लोगों का मानना है कि किसान यूनियन किसानों का हित –
कम चाहती है, वह राजनीति से प्रेरित ज्यादा है।

इस सन्दर्भ में किसान यूनियन का कहना है “हम आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक शोषण के विरुद्ध किसानों को संगठित करके एक नये समाज की संरचना करना चाहते हैं ।

आर्थिक मुद्दों के अतिरिक्त किसानों के राजनीतिक शोषण से हमारा तात्पर्य जातिवादी राजनीति को मिटाकर वर्गवादी राजनीति को विकसित करना है।

आर्थिक, सामाजिक व राजनीतिक दृष्टि से शोषण करने वालों के समूह विभिन्न राजनीतिक दलों में विराजमान हैं और वे अनेक प्रकार के हथकण्डे अपनाकर किसानों का मुँह बन्द करना चाहते हैं।

कभी जातिवादी नारे देकर, कभी किसान विरोधी आर्थिक तर्क देकर, कभी देश-हित का उपदेश देकर आदि, परन्तु वे यह भूल जाते हैं कि किसानों की उन्नति से ही भारत नाम का यह देश, जिसकी जनसंख्या का कम-से-कम 70% भाग किसानों का है, उन्नति कर सकता है।

कोई चाहे कि केवल एक-आध प्रतिशत राजनीतिज्ञों,अर्थशास्त्रियों, स्वयंभू समाजसेवियों तथा तथाकथित विचारकों की उन्नति हो जाने से देश की उन्नति हो जाएगी तो ऐसा सोचने वालों की सरासर भूल होगी।

यहाँ एक बात का उल्लेख करना और भी समीचीन होगा कि आर्थर डंकल के प्रस्तावों ने कृषक आन्दोलन में घी का काम किया है।

इससे आर्थिक स्थिति कमजोर होगी और करोड़ों कृषक बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के गुलाम बन जाएँगे। कृषक आन्दोलनों के कारण-भारत में कृषक आन्दोलन के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं-

(1) भूमि-सुधारों का क्रियान्वयन दोषपूर्ण है । भूमि का असमान वितरण इस आन्दोलन की मुख्य जड़ है।

(2) भारतीय कृषि को उद्योग का दर्जा न दिये जाने के कारण किसानों के हितों की उपेक्षा निरन्तर हो रही है।

(3) किसानों द्वारा उत्पादित वस्तुओं का मूल्य-निर्धारण सरकार करती है जिसका समर्थन मूल्य बाजार मूल्य से नीचे रहता है।
मूल्य-निर्धारण में कृषकों की भूमिका नगण्य है।

(4) दोषपूर्ण कृषि विपणन प्रणाली भी कृषक आन्दोलन के लिए कम उत्तरदायी नहीं है। भण्डारण की अपर्याप्त व्यवस्था, कृषि
मूल्यों में होने वाले उतार-चढ़ावों की जानकारी न होने से भी किसानो को पर्याप्त आर्थिक घाटा सहना पड़ता है।

(5) बीजों, खादों, दवाइयों के बढ़ते दाम और उस अनुपात में कृषकों को उनकी उपज का पूरा मूल्य भी न मिल पाना अर्थात् बढ़ती हुई लागत भी कृषक आन्दोलन को बढ़ावा देने के लिए उत्तरदायी है।

ये भी पढ़ें-  national integration essay in hindi | राष्ट्रीय एकता पर निबंध

(6) नयी कृषि तकनीक का लाभ आम कृषक को नहीं मिल पाता है।

(7) बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का पुलन्दा लेकर जो डंकल प्रस्ताव भारत में आया है, उससे भी किसान बेचैन हैं और उनके भीतर एक डर समाया हुआ है।

(8) कृषकों में जागृति आयी है और उनका तर्क है कि चूँकि सकल राष्ट्रीय उत्पाद में उनकी महती भूमिका है; अत: धन के वितरण में उन्हें भी आनुपातिक हिस्सा मिलना चाहिए।



उपसंहार

विभिन्न पंचवर्षीय योजनाओं का अवलोकन करने पर स्पष्ट होता है कि कृषि की हमेशा उपेक्षा हुई है; अत: आवश्यक है कि कृषि के विकास पर अधिकाधिक ध्यान दिया जाए।

स्पष्ट है कि कृषक हितों की अब उपेक्षा नहीं की जा सकती। सरकार को चाहिए कि कृषि को उद्योग का दर्जा प्रदान करे। कृषि उत्पादों के मूल्य-निर्धारण में कृषकों की भी भागीदारी सुनिश्चित की जानी चाहिए।

भूमि- सुधार कार्यक्रम के दोषों का निवारण होना जरूरी है तथा सरकार को किसी भी कीमत पर डंकल प्रस्ताव को अस्वीकृत कर देना चाहिए और सरकार द्वारा किसानों की माँगों और उनके आन्दोलनों पर गम्भीरतापूर्वक विचार करना चाहिए।






दोस्तों हमें आशा है की आपको यह निबंध अत्यधिक पसन्द आया होगा। हमें कमेंट करके जरूर बताइयेगा आपको भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध कैसा लगा ।

आप भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजियेगा।

सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण पढ़िये ।

» भाषा » बोली » लिपि » वर्ण » स्वर » व्यंजन » शब्द  » वाक्य » वाक्य शुद्धि » संज्ञा » लिंग » वचन » कारक » सर्वनाम » विशेषण » क्रिया » काल » वाच्य » क्रिया विशेषण » सम्बंधबोधक अव्यय » समुच्चयबोधक अव्यय » विस्मयादिबोधक अव्यय » निपात » विराम चिन्ह » उपसर्ग » प्रत्यय » संधि » समास » रस » अलंकार » छंद » विलोम शब्द » तत्सम तत्भव शब्द » पर्यायवाची शब्द » शुद्ध अशुद्ध शब्द » विदेशी शब्द » वाक्यांश के लिए एक शब्द » समानोच्चरित शब्द » मुहावरे » लोकोक्ति » पत्र » निबंध

सम्पूर्ण बाल मनोविज्ञान पढ़िये uptet / ctet /supertet

प्रेरक कहानी पढ़िये।

हमारे चैनल को सब्सक्राइब करके हमसे जुड़िये और पढ़िये नीचे दी गयी लिंक को टच करके विजिट कीजिये ।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

Tags – भारत में कृषि क्रांति,भारत में प्रमुख कृषि क्रांति,भारत की कृषि क्रांति,कृषि क्रांति,प्रमुख कृषि क्रांति,कृषि से संबंधित क्रांति,भारत में कृषि क्रांतियां,krishi par nibandh,किसान आंदोलन पर निबंध,बिजोलिया किसान आंदोलन पर निबंध लिखिए,कृषक आंदोलन क्या है,कृषक आंदोलन,कृषक आंदोलन के कारण,कृषक आंदोलन इन इंडिया,कृषक आंदोलन पर निबंध,भारत में कृषक की दशा पर निबंध,

1 thought on “भारत में कृषि क्रांति पर निबंध | कृषक आंदोलन पर निबंध | भारत में कृषक की दशा पर निबंध”

Leave a Comment