कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण

दोस्तों हमारा आज का टॉपिक कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण है। हमे अनेक परीक्षाओं में छंदों से संबंधित प्रश्न आते हैं,जिनमे छंद के उदाहरण या उदाहरण देकर छंद का नाम पूछा जाता है। इसलिए hindiamrit.com आज आपको इस टॉपिक की विधिवत जानकारी देगा।

Contents

कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण

Tags – कुंडलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण,कुंडलिया छंद की परिभाषा उदाहरण सहित,कुंडलिया छंद की परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए,कुंडलिया छंद की परिभाषा उदाहरण,कुंडलिया छंद की परिभाषा एवं उदाहरण,कुण्डलिया छंद की परिभाषा,कुण्डलिया छंद का उदाहरण,कुंडलिया छंद की परिभाषा,कुंडलिया की परिभाषा उदाहरण सहित,कुंडलिया की परिभाषा,कुण्डलिया छंद के सरल उदाहरण,कुण्डलिया छंद के उदाहरण,कुंडलिया छंद उदाहरण सहित,कुंडलिया छंद के उदाहरण बताइए,kundaliya chhand example in hindi,kundaliya chhand easy example in hindi,kundaliya chhand ka example in hindi,kundaliya chhand ke udaharan in hindi,kundaliya chhand ka udaharan,kundaliya chhand ke udaharan,कुंडलिया छंद के उदाहरण बताइए,कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण, kundaliya chhand in hindi,कुण्डलिया छंद के उदाहरण,





कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण

हमने आपको इस टॉपिक में क्या क्या पढ़ाया है?

(1) कुण्डलिया छंद की परिभाषा
(2) कुण्डलिया छंद के नियम | कुण्डलिया छंद पहचानने का तरीका
(3) कुण्डलिया छंद के उदाहरण स्पष्टीकरण सहित
(4) कुण्डलिया छंद के अन्य उदाहरण

कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण
कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण


कुण्डलिया छंद की परिभाषा | कुण्डलिया छंद किसे कहते हैं

छंद का सूत्र- दोहा रोला कुण्डलित, कर कुण्डलिया हो।

दोहा और रोला जोड़कर कुण्डलिया छन्द बनता है । कुण्डलिया के प्रथम दो चरणों में दोहा का लक्षण और बाद के चार चरणों में ‘रोला’ का लक्षण घटित होता है।

ये भी पढ़ें-  स्वर संधि – प्रकार,नियम,उदाहरण | swar sandhi in hindi


अतः प्रथम दो चरण – 13 + 11 मात्राएं = 24 मात्राएँ।
बाद के चार चरण – 11 + 13 = 24 मात्राएँ।

कुण्डलिया छंद के नियम | कुण्डलिया छंद पहचानने का तरीका

(1) कुल 6 चरण होते है।

(2) प्रथम दो चरण में दोहा छंद पाया जाता है। और अंतिम 4 चरण में रोल छंद पाया जाता है।





कुण्डलिया छंद के उदाहरण स्पष्टीकरण सहित

(1) रहिये लट पट काटि दिन, बरु घामें माँ सोय।
      छाँह न वाकी बैठिये, जो तरु पतरो होय ॥
      जो तरु पतरो होय, एक दिन धोखा दै है।
     जा दिन चले बयारि, टूटि तब जर ते जैहे ॥
     कह ‘गिरधर’ कविराय, छाँह मोटे की गहिये।
      पातो सब झरिजाय, तऊ छाया में रहिये॥

स्पष्टीकरण –

रहिये  लट  पट  काटि  दिन,  बरु  घामें  माँ  सोय।
I I S   I I    I I    S I    I I      I I   S S  S    S I  = 13 + 11 =24

छाँह  न  वाकी  बैठिये,  जो  तरु  पतरो  होय ॥
S I   I     S S   S I S    S   I I  I I S   S I  = 13 + 11 = 24

जो  तरु  पतरो  होय,  एक  दिन  धोखा  दै  है।
S   I I    I I S    S I    S I    I I   S S   S   S = 11 + 13 = 24

जा  दिन  चले  बयारि, टूटि  तब  जर  ते  जैहे ॥
S    I I    I S   I S I    S I   I I   I I    S  S S  = 11 +13 = 24

कह  ‘गिरधर’  कविराय,  छाँह  मोटे  की  गहिये।
I I     I I I I     I I S I      S I   S S   S    I I S  = 11 + 13 = 24

पातो  सब  झरिजाय , तऊ  छाया  में  रहिये॥
S S   I I    I I S I      I S    S S   S  I I S  = 11 + 13 = 24

अतः उपर्युक्त स्पष्टीकरण से यह साफ स्पष्ट होता है कि प्रथम दो पंक्तियों में दोहा छंद तथा अंतिम 4 पंक्तियों में रोला छंद है अतः यहां पर कुंडलिया छंद है।




ये भी पढ़ें-  पठन के प्रकार - सस्वर और मौन पठन / सस्वर और मौन पठन के भेद

कुण्डलिया छंद के अन्य उदाहरण

(1) कोलाहल सुनि खगन के,सरवर जनि अनुरागि।
      ये सब स्वारथ के सखा, दुरदिन दैहैं त्यागि।
      दुरहिन दैहैं त्यागि, तोय तेरो जब जैहैं।
      दूरहि ते तज आसि, पास कोऊ नहिं ऐहै।
      बरनै ‘दीनदयाल’ तोहि मथि करि है काहल
      ये चल-छल के मूल, भूल मत सुनि कोलाहल।

(2)  रम्भा झूमत हौ कहा थोरे ही दिन हेत।
       तुमसे केते है गये अरु है हैं इति खेत।।
       अरु ह्वै है इति खेत मूल लघु खाता हीने।
       ताहू पै गज रहे दीठि तुम पै अति दीने।।
       बरनै दीन दयाल’ हमें लखि होत अचम्भा ।
       एक जन्म के लागि कहा झुकि झूमत रम्भा।।



आप अन्य छंद भी पढ़िये

» दोहा छंद  » चौपाई छंद  » सोरठा छंद  » बरवै छंद   » कुण्डलिया छंद    » छप्पय छंद    » रोला छंद  » वीर/आल्हा छंद  » उल्लाला छंद  » गीतिका छंद » हरिगीतिका छंद



★  छंद की परिभाषा ,छंद के अंग ,छंद के भेद आदि पढ़िये इसे टच करके।।









सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण पढ़िये ।

» भाषा » बोली » लिपि » वर्ण » स्वर » व्यंजन » शब्द  » वाक्य » वाक्य शुद्धि » संज्ञा » लिंग » वचन » कारक » सर्वनाम » विशेषण » क्रिया » काल » वाच्य » क्रिया विशेषण » सम्बंधबोधक अव्यय » समुच्चयबोधक अव्यय » विस्मयादिबोधक अव्यय » निपात » विराम चिन्ह » उपसर्ग » प्रत्यय » संधि » समास » रस » अलंकार » छंद » विलोम शब्द » तत्सम तत्भव शब्द » पर्यायवाची शब्द » शुद्ध अशुद्ध शब्द » विदेशी शब्द » वाक्यांश के लिए एक शब्द » समानोच्चरित शब्द » मुहावरे » लोकोक्ति » पत्र » निबंध

ये भी पढ़ें-  चौपाई छंद की परिभाषा और उदाहरण | chaupai chhand in hindi | चौपाई छंद के उदाहरण

बाल मनोविज्ञान चैप्टरवाइज पढ़िये uptet / ctet /supertet

Uptet हिंदी का विस्तार से सिलेबस समझिए

हमारे चैनल को सब्सक्राइब करके हमसे जुड़िये और पढ़िये नीचे दी गयी लिंक को टच करके विजिट कीजिये ।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

दोस्तों आशा करता हूँ आपको यह आर्टिकल पसन्द आया होगा । हमें कॉमेंट करके बताइये की कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण आपको कैसा लगा तथा इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कीजिये ।


Tags – kundaliya chhand ka example,कुण्डलिया छंद के सरल उदाहरण,कुंडलिया छंद के उदाहरण,kundaliya udaharan,kundaliya chhand easy example,kundaliya के सरल उदाहरण,kundaliya छंद के उदाहरण,kundaliya chhand udaharan,कुंडलिया छंद के आसान उदाहरण,कुंडलिया छंद का उदाहरण,कुण्डलिया छंद की परिभाषा,कुंडलिया छंद का उदाहरण बताइए,कुंडलिया छंद का उदाहरण दीजिए,कुंडलिया छंद का उदाहरण बताओ,कुंडलिया छंद का उदाहरण मात्रा सहित,कुंडलिया छंद का उदाहरण सरल,कुण्डलिया छन्द,कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण,kundaliya chhand in hindi,कुण्डलिया छंद के उदाहरण,

2 thoughts on “कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | kundaliya chhand in hindi | कुण्डलिया छंद के उदाहरण”

  1. महोदय जी,
    सादर अभिवादन।
    आपके द्वारा कुण्डलिया छंद से सम्बंधित दी गई जानकारी बहुत ही महत्वपूर्ण, मार्गदर्शी एवं संग्रहणीय है। जानकारी से छात्रों, प्रतियोगियों एवं साहित्य साधकों को बहुत ही लाभ हुआ है। आपको साधुवाद।
    नरेन्द्र नाथ ‘चट्टान’, सिवनी (मध्य प्रदेश )

    Reply

Leave a Comment