कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में । लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध

समय समय पर हमें छोटी कक्षाओं में या बड़ी प्रतियोगी परीक्षाओं में निबंध लिखने को दिए जाते हैं। निबंध हमारे जीवन के विचारों एवं क्रियाकलापों से जुड़े होते है। आज hindiamrit.com  आपको निबंध की श्रृंखला में  कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध प्रस्तुत करता है।

Contents

कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध

इस निबंध के अन्य शीर्षक / नाम

(1) कुटीर उद्योग पर निबंध हिंदी में
(2) कुटीर उद्योग की देन पर निबंध
(3) अर्थव्यवस्था में कुटीर उद्योग का योगदान पर निबंध


Tags – कुटीर एवं लघु उद्योग,कुटीर उद्योग पर निबंध,लघु उद्योग निबंध,लघु उद्योग पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की जानकारी,लघु एवं कुटीर उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में बताइए,कुटीर एवं लघु उद्योग में अंतर,लघु कुटीर एवं मध्यम उपक्रम भारत सरकार,कुटीर एवं लघु उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में जानकारी,भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध,

लघु एवं कुटीर उद्योग का महत्व,लघु एवं कुटीर उद्योग की समस्या,लघु एवं कुटीर उद्योग की परिभाषा,लघु एवं कुटीर उद्योग क्या है,लघु एवं कुटीर उद्योग में अंतर,लघु उद्योग निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग का महत्व लिखिए,लघु उद्योग के बारे में निबंध,लघु उद्योग पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में जानकारी,लघु एवं कुटीर उद्योग की जानकारी,भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध,


कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध

पहले जान लेते है कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध की रूपरेखा ।

ये भी पढ़ें-  भारत में जनसंख्या वृद्धि की समस्या पर निबंध | जनसंख्या वृद्धि पर निबंध हिंदी में | essay on problem of population growth in hindi

निबंध की रूपरेखा

(1) प्रस्तावना
(2) कुटीर उद्योगों की स्वतंत्रतापूर्व स्थिति
(3) कुटीर उद्योगों की आवश्यकता
(4) कुटीर उद्योगों के विकास में गांधीजी का योगदान
(5) कुटीर उद्योगों का नया स्वरूप
(6) उपसंहार



लघु एवं कुटीर उद्योग का महत्व,लघु एवं कुटीर उद्योग की समस्या,लघु एवं कुटीर उद्योग की परिभाषा,लघु एवं कुटीर उद्योग क्या है,लघु एवं कुटीर उद्योग में अंतर,लघु उद्योग निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग का महत्व लिखिए,लघु उद्योग के बारे में निबंध,लघु उद्योग पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में जानकारी,लघु एवं कुटीर उद्योग की जानकारी,भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध,


कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में,लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध,laghu avm kutir udyog par nibandh,लघु एवं कुटीर उद्योग के योगदान पर निबंध,



कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध

प्रस्तावना

वर्तमान सभ्यता को यदि यान्त्रिक सभ्यता कहा जाए तो कोई अत्युक्ति न होगी। पश्चिमी देशों की सभ्यता यांत्रिक बन चुकी है।

हाथ से बनी वस्तु और यन्त्र से निर्मित वस्तु में किसी प्रकार की होड़ हो ही नहीं सकती; क्योंकि यन्त्र युग अपने साथ अपरिमित शक्ति एवं साधन लेकर आया है।

परन्तु विज्ञान का यह वरदान मानव-शान्ति के लिए अभिशाप भी सिद्ध हो रहा है। इसलिए युग-पुरुष महात्मा गाँधी ने यान्त्रिक सभ्यता के विरुद्ध कुटीर एवं लघु उद्योगों को बढ़ावा देने की आवाज उठायी।

वे कुटीर एवं लघु उच्योगों के माध्यम से ही गाँवों के देश भारत में आर्थिक समता लाने के पक्ष में थे। थोड़ी पूँजी द्वारा सीमित क्षेत्र में अपने हाथ से अपने घर में ही वस्तुओं का निर्माण करना कुटीर तथा लघु उद्योग के अन्तर्गत है ।

यह व्यवसाय प्रायः परम्परागत भी होता है। दरिया, गलीचे, रस्सियोँ बनाना, खद्दर, मोजे, शाल बुनना, लकड़ी, सोने, चाँदी, ताँबे, पीतल की दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओं का निर्माण करना आदि अनेक प्रकार की हस्तकला के कार्य इसके अन्तर्गत आते हैं।






कुटीर उद्योगों की स्वतन्त्रतापूर्व स्थिति

औद्योगिक दृष्टि से भारत का अतीतकाल अत्यन्त स्वर्णिम एवं सुखद था। लगभग सभी प्रकार के कुटीर एवं लघु उद्योग अपनी उन्नति की पराकाष्ठा पर थे।

‘ढाके की मलमल’ अपनी कलात्मकता में बहुत ऊँची उठ गयी थी मुसलमानी बादशाहों और नवाबों के द्वारा भी इसे विशेष प्रोत्साहन मिला।

देश को आर्थिक दृष्टि से कुछ इस प्रकार व्यवस्थित किया गया था कि प्राय: प्रत्येक गाँव स्वयं में अधिक-से-अधिक आर्थिक स्वावलम्बन प्राप्त कर सके।

किन्तु अंग्रेजी शासन की विनाशकारी आर्थिक नीति तथा यान्त्रिक सभ्यता की दौड़ में न टिक सकने के कारण ग्रामीण जीवन की औद्योगिक स्वावलम्बता छिन्न-भिन्न हो गयी ।

ये भी पढ़ें-  अनुशासन पर निबंध हिंदी में | अनुशासन का महत्व पर निबंध | essay on importance of discipline in hindi

देश की राजनीतिक पराधीनता इसके लिए पूर्ण उत्तरदायी थी। ग्रामीण-उद्योगों के समाप्त होने से ग्राम्य जीवन का सारा सुख भी समाप्त हो गया।







कुटीर उद्योगों की आवश्यकता


उत्पादन का पैमाना अत्यन्त छोटा है। देश की अधिकांश जनता अब भी छोटे छोटे व्यकसायों से अपनी जीविका चलाता है नी
के किसानों को वर्ष में कई महीने बेकार बैठना पड़ता है।

कृषि में रोजगार की प्रकृति मौसमी होती है। इस बेरोजगारी को दूर करने के लिए कुटीर उद्योग का सहायक साधनों के रूप में विकास होना आवश्यक है।

जापान फ्रांस, जर्मनी, इटली, रूस आदि देशों में गौण-उद्योग की प्रथा प्रचलित है। भारत की दरिद्रता का प्रधान कारण कटीर एवं लघ उद्योगों का विनाश ही रहा है।

भारत में कुटीर-उद्योगों और छोटे पैमाने के कला-कौशल के विकास के महत्त्व इस रूप में भी विशेष महत्त्वपूर्ण हैं क्योंकि यदि हम अपने बड़े पैमाने के संगठित उद्योगों में चौगुनी-पंचगुनी वृद्धि कर दें तो भी देश में वृत्तिहीनता की विशाल समस्या सुलझायाी नहीं जा सकती।

ऐसा करके हम केवल मुट्ठी भर व्यक्तियों की रोटी का ही प्रबन्ध कर सकते हैं।

इस जटिल समस्या के सुलझाने का एकमात्र उपाय बड़े पैमाने के साथ-साथ कुटीर एवं लघु उद्योगों का समृचित विकास ही है, जिससे कि ग्रामीण क्षेत्रों को सहायक व्यवसाय ओर किसानों की अपनी आय में वृद्धि करने का अवसर मिल सके।




गाँधी जी का योगदान

गाँधी जी का विचार था कि बड़े पैमाने के उद्योगों को विशेष प्रोत्साहन न देकर विशालकाय मशीनों के उपयोग को रोका जाए तथा छोटे उद्योगों द्वारा पर्याप्त मात्रा में आवश्यक वस्तुएँ उत्पादित की जाएँ।

कुटीर-उद्योग मनुष्य की स्वाभाविक रुचियों और प्राकृतिक योग्यताओं के विकास के लिए पूर्ण सुविधा प्रदान करता है। मशीन के मुँह से निकलने वाले एक मीटर टुकड़े को भी कौन अपना कह सकता है, जबकि वह भी उसी मजदूर के खून-पसीने से तैयार हुआ है।

हाथ से बनी हुई प्रत्येक वस्तु पर बनाने वाले के नैतिक, सांस्कृतिक तथा आत्मिक व्यक्तित्व की छाप अंकित होती है, जबकि मशीन की स्थिति में इनका लोप हो जाता है और व्यक्ति केवल उस मशीन का एक निर्जीव पुज्जा मात्र रह जाता है।

कुटीर एवं लघु उद्योगों में आधुनिक औद्योगीकरण से उत्पन्न वे दोष नहीं पाये जाते, जो औद्योगिक नगरों की भीड़-भाड़, पूँजी तथा उद्योगों के केन्द्रीकरण, लोक-स्वास्थ्य की पेचीदा समस्याओं, आवास की कमी तथा नैतिक पतन के कारण उत्पन्न होते हैं।

कुटीर, लघु उद्योग थोड़ी पूँजी के द्वारा जीविका-निर्वाह के साधन प्रस्तुत करते हैं। पारस्परिक सहयोग से कुटीर-उद्योग बड़े पैमाने में भी परिणत किया जा सकता है।

कुटीर-उद्योग में छोटे-छोटे बालकों एवं स्त्रियों के परिश्रम का भी सुन्दर उपयोग किया जा सकता है। कुटीर-उद्योग की न्हीं विशेषताओं से प्रभावित होकर बड़े-बड़े औद्योगिक राष्ट्रों में भी कुटीर एवं लघु उद्योग की प्रथा प्रचलित है ।

ये भी पढ़ें-  परोपकार पर निबंध हिंदी में | परहित सरिस धर्म नहीं भाई पर निबंध | paropkar par nibandh in hindi

जापान में 60 प्रतिशत उद्योगशालाएँ कुटीर एवं लघु उद्योग से संचालित हैं कहा जाता है कि जर्मनी में प्रत्येक मनुष्य को रोटी देने का प्रबन्ध करने के लिए हिटलर ने कुटीर उद्योगों की ही शरण ली थी।




कुटीर उद्योगों का नया स्वरूप

इस समय देश में छोटे कारखानों की संख्या मोटे तौर पर एक करोड़ से अधिक ऑकी गयी है, परन्तु तेल की घानियाँ, खाँडसारी और ऐसी वस्तुओं के छोटे कारखाने, जिन्हें केवल एक आदमी चलाता है आदि को मिलाकर इनकी संख्या बहुत कम है।

पंचवर्षीय योजनाओं का उद्देश्य उद्योगों को आर्थिक दृष्टि से आत्मनिर्भर बनाने का रहा है। अत: मुख्य रूप से ध्यान इस पर दिया जाएगा कि उद्योगों का विकास विकेन्द्रीकरण के आधार पर हो, शिल्पिक कुशलता में सुधार किया जाए ।

उत्पादकता बढ़ाने के लिए सहायता देकर छोटे उद्योग वालों की आय बढ़ाने में सहायता की जाए तथा दस्तकारों को सहकारिता के आधार पर संगठित करने के प्रयास किये जाएँ। इससे छोटे उद्योगों में उत्पादन का क्षेत्र बढ़ेगा।




उपसंहार

छोटे उद्योगों की गाँवों में स्थापना से न केवल ग्रामीण दस्तकारों की स्थिति में सुधार हुआ है, बल्कि गाँवों में रोजगार की सुविधा भी बढ़ी है।

अत: ग्राम विकास कार्यक्रमों में कुटीर एवं लघु उद्योगों का स्थान बहुत महत्त्वपूर्ण है। पूर्ण रूप से सफल बनाने के लिए हमारी सरकार इन्हें वैज्ञानिक पद्धति से सहकारिता के आधार पर संचालित करने की व्यवस्था कर रही है।

इसकी सफलता पर ही हमारे जीवन में पूर्ण शान्ति, सुख और समृद्धि की कल्याणकारी गूँज ध्वनित हो सकेगी।





दोस्तों हमें आशा है की आपको यह निबंध अत्यधिक पसन्द आया होगा। हमें कमेंट करके जरूर बताइयेगा आपको कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध कैसा लगा ।

आप कुटीर एवं लघु उद्योग पर निबंध हिंदी में | भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध | लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजियेगा।

सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण पढ़िये ।

» भाषा » बोली » लिपि » वर्ण » स्वर » व्यंजन » शब्द  » वाक्य » वाक्य शुद्धि » संज्ञा » लिंग » वचन » कारक » सर्वनाम » विशेषण » क्रिया » काल » वाच्य » क्रिया विशेषण » सम्बंधबोधक अव्यय » समुच्चयबोधक अव्यय » विस्मयादिबोधक अव्यय » निपात » विराम चिन्ह » उपसर्ग » प्रत्यय » संधि » समास » रस » अलंकार » छंद » विलोम शब्द » तत्सम तत्भव शब्द » पर्यायवाची शब्द » शुद्ध अशुद्ध शब्द » विदेशी शब्द » वाक्यांश के लिए एक शब्द » समानोच्चरित शब्द » मुहावरे » लोकोक्ति » पत्र » निबंध

सम्पूर्ण बाल मनोविज्ञान पढ़िये uptet / ctet /supertet

प्रेरक कहानी पढ़िये।

हमारे चैनल को सब्सक्राइब करके हमसे जुड़िये और पढ़िये नीचे दी गयी लिंक को टच करके विजिट कीजिये ।

https://www.youtube.com/channel/UCybBX_v6s9-o8-3CItfA7Vg

Tags – कुटीर एवं लघु उद्योग,कुटीर उद्योग पर निबंध,लघु उद्योग निबंध,लघु उद्योग पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की जानकारी,लघु एवं कुटीर उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में बताइए,कुटीर एवं लघु उद्योग में अंतर,लघु कुटीर एवं मध्यम उपक्रम भारत सरकार,कुटीर एवं लघु उद्योग किसे कहते हैं,लघु एवं कुटीर उद्योग के बारे में जानकारी,भारत के विकास में कुटीर एवं लघु उद्योगों का योगदान पर निबंध,लघु एवं कुटीर उद्योग की आवश्यकता पर निबंध,

Leave a Comment